Breaking News
Home / Country / कांग्रेस में गांधी परिवार के अलावा कोई भी काबिल नहीं, इसलिए सोनियां ही बनी अध्यक्ष

कांग्रेस में गांधी परिवार के अलावा कोई भी काबिल नहीं, इसलिए सोनियां ही बनी अध्यक्ष

दैनिक दिव्यज्योति

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी में गांधी परिवार के अलावा देश की जिम्मेदारी के लिए कोई भी नेता काबिल नहीं है। इसलिए 72 दिन बाद सोनियां गांधी को ही राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया।

सीडब्ल्यूसी की बैठक में सोनियां गांधी

दरअसल, राहुल गांधी ने 2019 के चुनावों की हार की जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद से राहुल गांधी के मान मनौव्वल का दौर चल रहा था और नए अध्यक्ष की खोजबीन भी अंदरखाने जारी रही।

नेता राहुल का ही बनाना चाहते थे अध्यक्ष
इसके लिए कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक बुलाई गई थी। कार्यसमिति के 5 ग्रुप बनाकर सभी प्रदेशों के नेताओं से राय मांगी गई। सभी ने एक स्वर में राहुल गांधी को अध्यक्ष बने रहने की राय सामने रख दी। शनिवार शाम को दोबारा बुलाई गई CWC की बैठक में रिपोर्ट पढ़ी गई. इसमें साफ कहा गया था कि राहुल गांधी के बिना कांग्रेस नहीं चल सकती। लिहाजा राहुल गांधी से अध्यक्ष बनने की अपील की गई। लेकिन उन्होंने इसे सिरे से खारिज कर दिया।

प्रियंका गांधी को बनाना चाहते थे अध्यक्ष:
इसी बीच, पी. चिदंबरम ने सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष बनाए जाने का प्रस्ताव रख दिया, जिस पर सोनिया ने ‘NO’ कह दिया। बैठक में मौजूद प्रियंका गांधी ने भी इस पर ऐतराज जता दिया। हालांकि, उन्होंने कहा कि अगर सोनिया तैयार हैं तो कोई क्या कह सकता है? तभी एके अंटोनी उठते हुए बोले कि ऐसा नहीं हो सकता।

ज्योतिरादित्य ने यह दिया सुझाव:
इस पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उन्हें बैठने के लिए कहते हुए कहा कि ऐसा क्यों नहीं हो सकता? ऐसा होना ही चाहिए। जब राहुल गांधी CWC का फैसला मानने को तैयार नही हैं तो मैडम को आगे आना ही चाहिए। वहीं मौजूद अम्बिका सोनी, आशा कुमारी और कुमारी शैलजा ने कहा कि गांधी परिवार के बिना पार्टी नहीं चल सकती और सोनिया गांधी से राहुल को मनाने के लिए कहा, लेकिन सोनिया गांधी ने साफ कर दिया कि राहुल के फैसले पर वो क्या कह सकती हैं?

बस यहीं पर तीनों नेताओं ने सोनिया से साफ-साफ कह दिया कि इस सूरत में उन्हें पार्टी संभालनी ही पड़ेगी। इस बात को पूरे CWC सदस्यों के दोहराने पर आखिरकार सोनिया को मानना पड़ा। मुकुल वासनिक को अध्यक्ष बनाना तय था, लेकिन सोनिया गांधी को बोला गया कि राहुल गांधी नहीं समझ रहे, अगर कोई और अध्यक्ष बना तो विरोधी गांधी परिवार का पपेट कहेंगे। इसके बाद ही ना ना करते करते सोनिया गांधी मान गईं।

About divya jyoti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *